Words with Various Meanings (अनेकार्थी शब्द)

अनेकार्थी शब्द – 
अरुण – लाल ,सूर्य का सारथि ,सूर्य 

अज – दशरथ के  पिता ,बकरा ,ब्रह्मा 

 
अर्णव – समुंद्र ,सूर्य ,इंद्र 
 
आम – आम  का फल ,सर्वसाधारण 
 
इंद्र – राजा ,देवताओं का राजा 
 
इंदु – चन्द्रमा ,कपूर 
 
उमा – पार्वती ,दुर्गा ,हल्दी 
 
उत्तर – जवाब ,एक दिशा 
 
काल – समय ,मृत्यु ,यमराज 
 
कोटि – करोड़ श्रेणी ,धनुष का सिरा 
 
कपि – बंदर ,हाथी ,सूर्य 
 
केतु – पताका ,एक अशुभ ग्रह 
 
कुल – वंश ,सम्पूर्ण 
 
खर – दुष्ट ,गधा ,तिनका 
 
ख – आकाश ,सूर्य ,स्वर्ण 
 
खत – पत्र ,लिखावट 
 
गति – चाल ,हालत ,मोक्ष 
 
घन – घना ,बादल 
 
घट – घड़ा ,शरीर ,हृदय 
 
चश्मा – ऐनक ,झरना 
 
चूना – टपकना ,पुताई करने वाला चूना 
 
छत्र – छाता ,कुकुरमुत्ता ,छतरी 
 
पास – उत्तीर्ण ,निकट 
 
बाग – उपवन ,लगाम 
 
लाल – माणिक्य ,पुत्र ,रक्तवर्णी 
 
वर – श्रेष्ट ,दूल्हा ,वरदान 
 
रस – काव्यानंद ,भोज्यरस ,स्वाद 
 
मित्र – सूर्य ,दोस्त 
 
मंगल – कल्याण ,एक ग्रह 
 
वंश – बाँस ,कुल 
 
जरा – बुढ़ापा ,थोड़ा -सा ,जला हुआ 
 
तरणि – सूर्य ,नौका 
 
दक्ष – चतुर ,ब्रह्मा के पुत्र 
 
 
धनंजय – अर्जुन, अग्नि 
 
पति – स्वामी, शौहर 
 
पोत – जहाज , मोती , बच्चा 
 
पत्र  – चिट्ठी , पत्ता 
 
पद – पैर , पोस्ट , छंद 
 
परदा – आवरण , पट, घूंघट 
 
परी – अप्सरा ,लेटी ,घी मापने का पात्र 
 
नाना – माता का पिता ,विविध 
 
मुद्रा – अंगूठी ,सिक्का ,भावमुद्रा 
 
भूत – भूत प्रेत ,भूतकाल 
 
स्नेह – प्रेम ,तेल 
 
हस्ती – हाथी ,हैसियत 
 
सैंधव – घोड़ा ,नमक 
 
श्री – शोभा ,लक्ष्मी ,सम्पत्ति 
 
श्याम – कृष्ण ,काला 
 
रंभा – एक अप्सरा ,केला ,वेश्या 
 
रसा – पृथ्वी ,जीभ ,शोरबा 
 
लय – लीन होना ,ताल ,प्रवाह 

 26 total views

Ghosh and Aghosh Alphabets (घोष और अघोष)

घोष और अघोष :- ध्वनि की दृष्टि से जिन व्यंजन वर्णों के उच्चारण में स्वरतन्त्रियाँ झंकृत होती है , उन्हें ‘ घोष ‘ कहते है और जिनमें स्वरतन्त्रियाँ झंकृत नहीं होती उन्हें ‘ अघोष ‘ व्यंजन कहते हैं ! ये घोष – अघोष व्यंजन इस प्रकार हैं – 

 

     
  घोष                         अघोष
 
   ग , घ ,  ङ                    क , ख 
  
   ज , झ ,  ञ                   च , छ 
 
   ड , द , ण , ड़ , ढ़            ट , ठ 
 
   द , ध , न                      त , थ 
 
   ब , भ , म                      प , फ 
 
   य , र , ल , व , ह             श , ष , स 

 20 total views

Words with Different Meanings and Same Pronunciation (श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द)

श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द :- ये शब्द चार शब्दों से मिलकर बना है ,श्रुति+सम +भिन्न +अर्थ , इसका अर्थ है . सुनने में समान लगने वाले किन्तु भिन्न अर्थ वाले दो शब्द अर्थात वे शब्द जो सुनने और उच्चारण करने में समान प्रतीत हों, किन्तु उनके अर्थ भिन्न -भिन्न हों , वे श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द कहलाते हैं . 

ऐसे शब्द सुनने या  उच्चारण करने में समान भले प्रतीत हों ,किन्तु समान होते नहीं हैं , इसलिए उनके अर्थ में भी परस्पर भिन्नता होती है ; जैसे – अवलम्ब और अविलम्ब . दोनों शब्द सुनने में समान लग रहे हैं , किन्तु वास्तव में समान हैं नहीं ,अत: दोनों शब्दों के अर्थ भी पर्याप्त भिन्न हैं , ‘अवलम्ब ‘ का अर्थ है – सहारा , जबकि  अविलम्ब का अर्थ है – बिना विलम्ब के अर्थात शीघ्र . 

 
ये शब्द निम्न इस प्रकार से है – 
 
अंस – अंश = कंधा – हिस्सा 
 
अंत – अत्य = समाप्त – नीच 
 
अन्न -अन्य = अनाज -दूसरा 
 
अभिराम -अविराम = सुंदर -लगातार 
 
अम्बुज – अम्बुधि = कमल -सागर 
 
अनिल – अनल = हवा -आग 
 
अश्व – अश्म = घोड़ा -पत्थर 
 
अनिष्ट – अनिष्ठ = हानि – श्रद्धाहीन 
 
अचर – अनुचर = न चलने वाला – नौकर 
 
अमित – अमीत = बहुत – शत्रु 
 
अभय – उभय = निर्भय – दोनों 
 
अस्त – अस्त्र = आँसू – हथियार 
 
असित – अशित = काला – भोथरा 
 
अर्घ – अर्घ्य = मूल्य – पूजा सामग्री 
 
अली – अलि = सखी – भौंरा 
 
अवधि – अवधी = समय – अवध की भाषा 
 
आरति – आरती = दुःख – धूप-दीप 
 
आहूत – आहुति = निमंत्रित – होम 
 
आसन – आसन्न = बैठने की वस्तु – निकट 
 
आवास – आभास = मकान – झलक 
 
आभरण – आमरण = आभूषण – मरण तक 
 
आर्त्त – आर्द्र = दुखी – गीला 
 
ऋत – ऋतु = सत्य – मौसम 
 
कुल – कूल = वंश – किनारा 
 
कंगाल – कंकाल = दरिद्र – हड्डी का ढाँचा 
 
कृति – कृती = रचना – निपुण 
 
कान्ति – क्रान्ति = चमक – उलटफेर 
 
कलि – कली = कलयुग – अधखिला फूल 
 
कपिश – कपीश = मटमैला – वानरों का राजा 
 
कुच – कूच = स्तन – प्रस्थान 
 
कटिबन्ध – कटिबद्ध = कमरबन्ध – तैयार / तत्पर 
 
छात्र – क्षात्र = विधार्थी – क्षत्रिय 
 
गण – गण्य = समूह – गिनने योग्य 
 
चषक – चसक = प्याला – लत 
 
चक्रवाक – चक्रवात = चकवा पक्षी – तूफान 
 
जलद – जलज = बादल – कमल 
 
तरणी – तरुणी = नाव – युवती 
 
तनु – तनू = दुबला – पुत्र 
 
दारु – दारू = लकड़ी – शराब 
 
दीप – द्वीप = दिया – टापू 
 
दिवा – दीवा = दिन – दीपक 
 
देव – दैव = देवता – भाग्य 
 
नत – नित = झुका हुआ – प्रतिदिन 
 
नीर – नीड़ = जल – घोंसला 
 
नियत – निर्यात = निश्चित – भाग्य 
 
नगर – नागर = शहर – शहरी 
 
निशित – निशीथ = तीक्ष्ण – आधी रात 
 
नमित – निमित = झुका हुआ – हेतु 
 
नीरद – नीरज = बादल – कमल 
 
नारी – नाड़ी = स्त्री – नब्ज 
 
निसान – निशान = झंडा – चिन्ह 
 
निशाकर – निशाचर = चन्द्रमा – राक्षस 
 
पुरुष – परुष = आदमी – कठोर 
 
प्रसाद – प्रासाद = कृपा – महल 
 
परिणाम – परिमाण = नतीजा – मात्रा 

 325 total views

Indeclinable (Avyay) (अव्यय ( अविकारी शब्द ))

Indeclinable – अव्यय ( अविकारी शब्द ) :

अविकारी शब्द – जिन शब्दों जैसे क्रियाविशेषण ,संबंधबोधक ,समुच्चयबोधक , तथा विस्मयादिबोधक आदि के स्वरूप में किसी भी कारण से परिवर्तन नहीं होता, उन्हें अविकारी शब्द कहते हैं ! अविकारी शब्दों को अव्यय भी कहा जाता है !

अव्यय – अव्यय वे शब्द हैं जिनमें लिंग ,पुरुष ,काल आदि की दृष्टि से कोई परिवर्तन नहीं होता, जैसे – यहाँ ,कब, और आदि ! अव्यय शब्द पांच प्रकार के होते हैं –

 
1 – क्रियाविशेषण – धीरे -धीरे , बहुत 
2 – संबंधबोधक – के साथ , तक 
3 – समुच्चयबोधक – तथा , एवं ,और 
4 – विस्मयादिबोधक – अरे ,हे 
5 – निपात – ही ,भी 
 
1 – क्रियाविशेषण अव्यय – जो अव्यय किसी क्रिया की विशेषता बताते हैं ,वे क्रिया विशेषण कहलाते  हैं , जैसे – मैं बहुत थक गया हूँ । 
     क्रियाविशेषण के चार भेद हैं – 
 
1 – कालवाचक  क्रियाविशेषण– जिन शब्दों से कालसंबंधी क्रिया की विशेषता का बोध हो , 
    जैसे – कल ,आज ,परसों ,जब ,तब सायं आदि ! ( कृष्ण कल जाएगा । )
 
2 – स्थानवाचक  क्रियाविशेषण– जो  क्रियाविशेषण क्रिया के होने या न होने के स्थान का बोध कराएँ , 
जैसे – यहाँ ,इधर ,उधर ,बाहर ,आगे ,पीछे ,आमने ,सामने ,दाएँ ,बाएँ आदि 
                              ( उधर मत जाओ । )
 
3 – परिमाणवाचक  क्रियाविशेषण– जहाँ क्रिया के परिमाण / मात्रा की विशेषता का बोध हो ,
     जैसे – जरा ,थोड़ा , कुछ ,अधिक ,कितना ,केवल आदि ! ( कम खाओ )
             
4 – रीतिवाचक  क्रियाविशेषण– इसमें क्रिया के होने के ढंग का पता चलता है , जैसे – जोर से,
     धीरे -धीरे ,भली -भाँति ,ऐसे ,सहसा ,सच ,तेज ,नहीं ,कैसे ,वैसे ,ज्यों ,त्यों आदि !
     ( वह पैदल चलता है । )
 
2 – संबंधबोधक अव्यय – जो अविकारी शब्द संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्दों के साथ जुड़कर दूसरे शब्दों से उनका संबंध बताते हैं ,संबंधबोधक अव्यय कहलाते हैं , 
जैसे – के बाद , से पहले ,के ऊपर ,के कारण ,से लेकर ,तक ,के अनुसार ,के भीतर ,की खातिर ,के लिए,  के बिना , आदि ! ( विद्या के बिना मनुष्य पशु है । )
 
3 – समुच्चयबोधक अव्यय – दो शब्दों ,वाक्यांशों या वाक्यों को जोड़ने वाले शब्दों को समुच्चयबोधक अव्यय कहते हैं ! 
 
जैसे – कि ,मानों ,आदि ,और ,अथवा ,यानि ,इसलिए , किन्तु ,तथापि ,क्योंकि ,मगर ,बल्कि आदि ! (मोहन पढ़ता है और सोहन लिखता है । )
     
4 – विस्मयादिबोधक अव्यय – जो अविकारी शब्द हमारे मन के हर्ष ,शोक ,घृणा ,प्रशंसा , विस्मय आदि भावों को व्यक्त करते हैं , उन्हें विस्मयादिबोधक अव्यय कहते हैं ! जैसे – 
     अरे ,ओह ,हाय ,ओफ ,हे  आदि !( इन शब्दों के साथ संबोधन का चिन्ह ( ! ) भी लगाया 
     जाता हैं ! जैसे – हाय राम ! यह क्या हो गया । )
 
5 – निपात –  जो अविकारी शब्द किसी शब्द या पद के बाद जुड़कर उसके अर्थ में विशेष प्रकार का बल भर देते हैं उन्हें निपात कहते हैं ! जैसे – ही ,भी ,तो ,तक ,भर ,केवल/ मात्र ,
     आदि !  ( राम ही लिख रहा है । ) 

 17 total views

Hindi Synonyms (हिंदी पर्यायवाची शब्द)

Hindi Synonyms : हिंदी पर्यायवाची शब्द :

1. असुर – दनुज, निशाचर, राक्षस ,दैत्य ,दानव ,रजनीचर ,यातुधान 

2. अमृत – पीयूष , सुधा ,अमिय ,सोम ,सुरभोग ,मधु 
3. अर्जुन – धनंजय , पार्थ , भारत ,गांडीवधारी ,कौन्तेय ,गुडाकेश 
4. अरण्य – जंगल ,वन ,कान्तार ,कानन ,विपिन 
5. अंग – अंश ,भाग ,हिस्सा ,अवयव 
6. आँख – नेत्र ,चक्षु ,लोचन ,दृग ,अक्षि ,विलोचन 

7. आम्र – आम ,रसाल ,सहकार, अतिसौरभ ,पिकवल्लभ 

8. आकाश – अम्बर ,गगन ,नभ , व्योम , शून्य ,अनन्त ,आसमान ,अन्तरिक्ष 
9. अनी – सेना ,फौज ,चमू ,दल ,कटक 

10. इच्छा – कामना ,चाह , आकांक्षा ,मनोरथ ,स्पृहा ,वांछा ,ईहा ,अभिलाषा 

11. इन्द्र – सुरेश ,सुरेन्द्र ,सुरपति ,शचीपति ,देवेन्द्र ,देवेश ,वासव ,पुरन्दर 
12. कमल – राजीव ,पुण्डरीक ,जलज ,पंकज ,सरोज ,सरोरुह ,नलिन ,तामरस ,कंज,अरविन्द, अम्बुज ,सरसिज 
13. किरण – अंशु ,रश्मि ,कर ,मयूख , मरीचि ,प्रभा ,अर्चि 
14. कपड़ा – वस्त्र ,पट ,चीर ,अम्बर ,वसन 

15. कुबेर – धनद ,धनेश ,धनाधिप ,राजराज ,यक्षपति 

16. कामदेव – मनसिज ,मनोज ,काम ,मन्मथ ,मार ,अनंग ,पुष्पधन्वा ,मदन ,कंदर्प , मकरध्वज ,रतिनाथ ,मीनकेतु 

17. कृष्ण – गोविन्द ,गोपाल ,माधव ,कंसारि ,यशोदानन्दन ,देवकीपुत्र ,वासुदेव ,नन्दनन्दन , हरि ,श्याम ,मुरारि ,राधावल्लभ ,यदुराज ,कान्ह ,कन्हैया 

18. कल्पवृक्ष – भंडार ,सुरतरु ,पारिजात ,कल्पद्रुम ,कल्पतरु 

19. कोयल – पिक ,परभृत ,कोकिल ,वसंतदूती ,वसंतप्रिय 
20. गणेश – लम्बोदर ,गजपति ,गणपति ,एकदन्त ,विनायक ,गजवदन ,मोदकप्रिय , मूषकवाहन ,भवानीनन्दन ,गौरीसुत , गजानन 
21. गधा – गदहा ,गर्दभ ,वैशाखनन्दन,रासभ ,खर ,धूसर 
22. गंगा – भागीरथी ,जाह्नवी ,मन्दाकिनी ,विष्णुपदी ,देवापगा ,देवनदी ,सुरसरिता ,सुरसरि
23. गर्व – अहं ,अहंकार ,दर्प ,दम्भ ,अभिमान ,घमण्ड 
24. गाय – धेनु ,गौ ,सुरभि ,गैया ,दोग्धी ,पयस्विनी ,गऊ 
25. चतुर – दक्ष ,पटु ,कुशल ,नागर ,विज्ञ ,निपुण 

26. चन्द्रमा -चन्द्र ,राकापति ,राकेश ,मयंक ,सोम ,शशि ,इन्दु ,मृगांक ,हिमकर ,सुधाकर , कलानिधि ,निशाकर 

27. चोर – दस्यु ,तस्कर ,रजनीचर ,साहसिक ,खनक ,मोषक ,कुम्भिल 

28. जमुना – यमुना ,रविजा ,कालिन्दी ,अर्कजा ,सूर्यसुता ,रवितनया ,तरणि-तनूजा, कृष्णा 

29. जीभ – जिह्वा , रसना ,रसिका ,रसला ,रसज्ञा ,जबान 

30. झण्डा – ध्वजा ,पताका ,केतु ,केतन ,ध्वज 
31. द्रव्य – धन, दौलत ,वित्त ,संपत्ति ,सम्पदा ,विभूति 

32. द्रौपदी – कृष्णा ,द्रुपदसुता ,पांचाली ,याज्ञसेनी ,सैरन्ध्री 

33. धनुष- धनु ,चाप ,कमान ,शरासन, पिनाक ,कोदण्ड 

34. नदी – सरिता ,तटिनी ,आपगा ,निम्नगा ,तरंगिणी ,वाहिनी ,स्रोतस्विनी 

35. नाव – नौका ,तरणि ,तरी ,नैया ,वहित्र ,डोंगी 
36. पृथ्वी – भू,भूमि ,इला ,धरती ,धरित्री ,मेदिनी ,अचला ,वसुधा ,वसुन्धरा ,उर्वी 

37. पत्र – पत्ता ,दल ,पल्लव ,पर्ण ,किसलय 

38. पण्डित – प्राज्ञ ,कोविद ,मनीषी ,विद्वान ,सुधी ,विचक्षण 
39. पुष्प – फूल ,कुसुम, सुमन ,प्रसून ,पुहुप ,फुल्ल 

40. प्रकाश – प्रभा ,कान्ति ,ज्योति ,उजाला ,द्युति 

41. बाण – शर , शिलीमुख ,नाराच, विशिख ,इषु ,तीर 
42. ब्रह्मा – विधि ,विधाता ,स्वयंभू ,चतुरानन ,चतुर्मुख ,कमलासन ,पितामह ,हिरण्यगर्भा 

43. बिजली – चपला ,चंचला ,सौदामिनी ,विद्युत ,दामिनी ,तड़ित ,क्षणप्रभा ,बीजुरी 

44. बन्दर – कपि ,वानर ,शाखामृग ,मर्कट ,हरि 
45. वृक्ष – तरु ,विटप,पादप ,पेड़ ,रुख ,द्रुम 

46. मित्र -सखा ,मीत ,दोस्त ,सहचर ,सुहृद 

47. महेश – शिव ,शंकर ,भूतनाथ ,चन्द्रशेखर ,चन्द्रमौलि ,भोले ,रूद्र ,त्रिलोचन ,त्रिनेत्र , आशुतोष ,पशुपति ,शम्भु 
48. मछली – मत्स्य ,मीन ,शफरी ,झष ,जलजीवन 
49. मनुष्य – मनुज ,आदमी ,इंसान ,मानव ,मनुपुत्र ,नर, व्यक्ति 

50. मदिरा -शराब ,मद्य ,सुरा ,सोमरस ,मधु ,आसव ,वारुणी ,हाला 

51. माला – हार ,मालिका ,दाम ,गुणिका ,सुमिरनी ,माल्य 
52. मोती – मुक्ता , मौक्तिक ,शशिप्रभा ,सीपिज 

53. मुक्ति – मोक्ष ,कैवल्य ,परमपद ,सदगति ,निर्वाण ,अपवर्ग 

54. मयूर – मोर ,नीलकंठ ,शिखी ,शिवसुतवाहन ,कलापी ,केकी 
55. यम – यमराज ,कृतांत ,रविसुत ,धर्मराज ,काल ,अंतक ,जीवितेश ,सूर्यपुत्र ,दण्डधर 

56. रात्रि – रात ,यामिनी ,निशा ,विभावरी ,रजनी ,शर्वरी ,क्षणदा ,रैन 

57. लक्ष्मी – रमा ,चंचला ,विष्णुप्रिया ,कमला ,पदमा ,कमलासना ,पदमासना ,इन्दिरा ,  हरिप्रिया 

58. सम्पूर्ण – सब ,पूरा ,पूर्ण ,निखिल ,अखिल ,नि:शेष ,सकल 

59. सागर – समुद्र ,रत्नाकर ,नदीश ,पयोधि ,वारिधि ,जलधि ,उदधि ,जलनिधि ,नीरनिधि, पारावार ,सिंधु 

60. सर्प – नाग ,भुजग ,भुजंग ,पन्नग ,उरग ,व्याल ,विषधर ,अहि ,फणी ,फणधर 

61. सोना – स्वर्ण ,कंचन ,कांचन ,कनक , हेम ,जातरूप ,सुवर्ण ,हाटक 
62. समूह – समुदाय ,वृन्द ,गण ,संघ ,पुंज ,दल ,झुण्ड 

63. सूर्य – रवि ,अर्क ,भानु ,दिनेश ,दिवाकर ,भास्कर ,सविता ,आदित्य ,अंशुमाली , मार्तण्ड ,दिनकर 

64. सिंह – हरि ,व्याघ्र ,शार्दूल ,केशरी ,कहेरी ,मृगेन्द्र ,मृगराज ,पंचमुख 

65. सुन्दर – रुचिर ,चारू ,रम्य ,रमणीक ,मनभावन ,ललित ,आकर्षक ,मंजुल ,कलित , सुरम्य ,कमनीय ,सुहावना 

66. सेविका – दासी ,नौकरानी ,परिचारिका ,भृत्या ,किंकरी ,अनुचरी 

67. स्तन – पयोधर ,उरोज ,कुच ,वक्षोज 

68. हिमालय – नगराज ,गिरीश ,गिरिवर ,पर्वतेश ,पर्वतराज ,हिमाद्रि ,हिमगिरी ,हिमवान 
69. हाथी – हस्ती ,कुंजर ,नाग ,सिन्धुर ,दन्ती ,करि ,द्विरद , गयंद ,गज ,मातंग 

70. हाथ – हस्त ,भुजा ,पाणि ,कर ,बाहु 

71. हिरन – हरिण ,सारंग ,मृग ,कुरंग ,सुरभी 
72. हवा – पवन ,वायु ,वात ,समीर ,प्रभंजन ,अनिल ,समीरण 

73. हनुमान – पवनपुत्र ,पवनसुत ,कपीश ,बजरंगी ,महावीर ,आंजनेय ,मारुति ,पवनकुमार , रामदूत ,वज्रांगी ,जितेन्द्रिय 

74. हंस – मराल ,चक्रांग ,कलहंस ,मानसीक 

75. हितैषी – शुभेच्छु , हितकायी ,मंगलाकांक्षी ,शुभचिंतक ,हितचिन्तक 

76. मुर्गा – कुक्कुट ,ताम्रचुड़ ,अरुणशिखा ,ताम्रशिख ,उपाकर 

77. भ्रमर – अलि ,मधुकर ,भंवर ,भौंए ,षटपद ,भृंगी 

78. धूल – रज ,माटी ,मिट्टी ,मृत्तिका ,रेणु ,धूलि 
79. पत्थर – पाहन ,पाषण ,शिला ,प्रस्तर ,उपल ,अश्म 

80. तारा – नक्षत्र ,सितारा ,उडु ,तारक 

81. तलवार – असि ,कृपाण ,करवाल ,चन्द्रहास ,खड्ग 
82. दांत – दन्त ,रद ,द्विज ,मुखनुर 

83. बाल – केश ,कच ,कुंतल ,चिकुर ,जटा ,शिरोरुह 

84. कली – मुकुल ,कलिका ,कोरक ,जालक 
85. बहुत – प्रभूत ,प्रचुर ,अपरिमित ,अमित ,अपार ,विपुल 

86. राधा – कृष्ण बल्लभ ,कृष्णप्रिया ,हरिप्रिया ,राधिका ,वृषभानुसुता ,वृषभानुदुलारी , वृषभानुजा ,बृजरानी 

87. वर्षा –  बारिश, बरसात ,पावस ,वृष्टि ,वर्षण 

88. विवाह – ब्याह ,शादी ,पाणिग्रहण ,परिणय 
89. सहेली – सखी ,आली ,अलि ,भटू ,सहचरी ,संगिनी ,सहचारिणी 

90. साधु – साधू ,संत ,वैरागी ,संन्यासी ,महात्मा 

91. पुत्र – सुत, बेटा ,तनय ,आत्मज ,तनुज ,नन्दन ,अपत्य 
92. पुत्री – सुता ,बेटी ,तनया ,आत्मजा ,तनुजा ,नन्दिनी ,दुहिता 

93. धन – श्री ,सम्पत्ति ,सम्पदा ,लक्ष्मी ,वित्त ,अर्थ 

94. बादल – पयोद ,जलज ,अम्बुद ,मेघ ,वारिद ,जलधर ,नीरद ,पयोधर ,वारिधर 
95. ब्राह्मण – द्विज ,भूसुर ,भूदेव ,विप्र ,पण्डित 
96. विष्णु – हरि ,श्रीपति ,लक्ष्मीपति ,चतुर्भुज ,रमापति ,रमेश ,चक्रपाणि ,जनार्दन ,मुकुन्द, नारायण ,माधव ,केशव,अच्युत 
97. अग्नि – आग ,अनल,पावक ,हुताशन,कृशानु ,दहन ,वह्नि ,ज्वाला ,कपिल,शिखि ,धुमध्व्ज 
98. अतिथि – अभ्यागत ,पाहुन ,आगन्तुक ,मेहमान 
99. अश्व – घोड़ा ,हय ,बाजि ,घोटक ,तुरंग ,सैन्धव 
100. चरण – पैर ,पाद ,पाँव ,पग ,पद 

 20 total views

One Word Definitions (वाक्यांश के लिए एक शब्द)

One Word Definitions 
वाक्यांश के लिए एक शब्द :

  1. जिसका जन्म नहीं होता – अजन्मा 
  2. पुस्तकों की समीक्षा करने वाला – समीक्षक , आलोचक 
  3. जिसे गिना न जा सके – अगणित 
  4. जो कुछ भी नहीं जानता हो – अज्ञ 
  5. जो बहुत थोड़ा जानता हो – अल्पज्ञ 
  6. जिसकी आशा न की गई हो – अप्रत्याशित 
  7. जो इन्द्रियों से परे हो – अगोचर 
  8. जो विधान के विपरीत हो – अवैधानिक 
  9. जो संविधान के प्रतिकूल हो – असंवैधानिक 
  10. जिसे भले -बुरे का ज्ञान न हो – अविवेकी 
  11. जिसके समान कोई दूसरा न हो – अद्वितीय 
  12. जिसे वाणी व्यक्त न कर सके – अनिर्वचनीय 
  13. जैसा पहले कभी न हुआ हो – अभूतपूर्व 
  14. जो व्यर्थ का व्यय करता हो – अपव्ययी 
  15. बहुत कम खर्च करने वाला – मितव्ययी 
  16. सरकारी गजट में छपी सूचना – अधिसूचना 
  17. जिसके पास कुछ भी न हो – अकिंचन 
  18. दोपहर के बाद का समय – अपराह्न 
  19. जिसका निवारण न हो सके – अनिवार्य 
  20. देहरी पर रंगों से बनाई गई चित्रकारी – अल्पना 
  21. आदि से अन्त तक – आघन्त 
  22. जिसका परिहार करना सम्भव न हो – अपरिहार्य 
  23. जो ग्रहण करने योग्य न हो – अग्राह्य 
  24. जिसे प्राप्त न किया जा सके – अप्राप्य 
  25. जिसका उपचार सम्भव न हो – असाध्य 
  26. भगवान में विश्वास रखने वाला – आस्तिक 
  27. भगवान में विश्वास न  रखने वाला- नास्तिक 
  28. आशा से अधिक – आशातीत 
  29. ऋषि की कही गई बात – आर्ष 
  30. पैर से मस्तक तक – आपादमस्तक 
  31. अत्यंत लगन एवं परिश्रम वाला – अध्यवसायी 
  32. आतंक फैलाने वाला – आंतकवादी 
  33. देश के बाहर से कोई वस्तु मंगाना – आयात 
  34. जो तुरंत कविता बना सके – आशुकवि 
  35. नीले रंग का फूल – इन्दीवर 
  36. उत्तर -पूर्व का कोण – ईशान 
  37. जिसके हाथ में चक्र हो – चक्रपाणि 
  38. जिसके मस्तक पर चन्द्रमा हो – चन्द्रमौलि 
  39. जो दूसरों के दोष खोजे – छिद्रान्वेषी 
  40. जानने की इच्छा – जिज्ञासा 
  41. जानने को इच्छुक – जिज्ञासु 
  42. जीवित रहने की इच्छा- जिजीविषा 
  43. इन्द्रियों को जीतने वाला – जितेन्द्रिय 
  44. जीतने की इच्छा वाला – जिगीषु 
  45. जहाँ सिक्के ढाले जाते हैं – टकसाल 
  46. जो त्यागने योग्य हो – त्याज्य 
  47. जिसे पार करना कठिन हो – दुस्तर 
  48. जंगल की आग – दावाग्नि
  49. गोद लिया हुआ पुत्र – दत्तक 
  50. बिना पलक झपकाए हुए – निर्निमेष 
  51. जिसमें कोई विवाद ही न हो – निर्विवाद 
  52. जो निन्दा के योग्य हो – निन्दनीय 
  53. मांस रहित भोजन – निरामिष 
  54. रात्रि में विचरण करने वाला – निशाचर 
  55. किसी विषय का पूर्ण ज्ञाता – पारंगत 
  56. पृथ्वी से सम्बन्धित – पार्थिव 
  57. रात्रि का प्रथम प्रहर – प्रदोष 
  58. जिसे तुरंत उचित उत्तर सूझ जाए – प्रत्युत्पन्नमति 
  59. मोक्ष का इच्छुक – मुमुक्षु 
  60. मृत्यु का इच्छुक – मुमूर्षु 
  61. युद्ध की इच्छा रखने वाला – युयुत्सु 
  62. जो विधि के अनुकूल है – वैध 
  63. जो बहुत बोलता हो – वाचाल 
  64. शरण पाने का इच्छुक – शरणार्थी 
  65. सौ वर्ष का समय – शताब्दी 
  66. शिव का उपासक – शैव 
  67. देवी का उपासक – शाक्त 
  68. समान रूप से ठंडा और गर्म – समशीतोष्ण 
  69. जो सदा से चला आ रहा हो – सनातन 
  70. समान दृष्टि से देखने वाला – समदर्शी 
  71. जो क्षण भर में नष्ट हो जाए – क्षणभंगुर 
  72. फूलों का गुच्छा – स्तवक 
  73. संगीत जानने वाला – संगीतज्ञ 
  74. जिसने मुकदमा दायर किया है – वादी 
  75. जिसके विरुद्ध मुकदमा दायर किया है – प्रतिवादी 
  76. मधुर बोलने वाला – मधुरभाषी 
  77. धरती और आकाश के बीच का स्थान – अन्तरिक्ष 
  78. हाथी के महावत के हाथ का लोहे का हुक – अंकुश 
  79. जो बुलाया न गया हो – अनाहूत 
  80. सीमा का अनुचित उल्लंघन – अतिक्रमण 
  81. जिस नायिका का पति परदेश चला गया हो – प्रोषित पतिका
  82. जिसका पति परदेश से वापस आ गया हो – आगत पतिका 
  83. जिसका पति परदेश जाने वाला हो – प्रवत्स्यत्पतिका 
  84. जिसका मन दूसरी ओर हो – अन्यमनस्क 
  85. संध्या और रात्रि के बीचकी वेला – गोधुलि 
  86. माया करने वाला – मायावी 
  87. किसी टूटी – फूटी इमारत का अंश – भग्नावशेष 
  88. दोपहर से पहले का समय – पूर्वाह्न 
  89. कनक जैसी आभा वाला – कनकाय 
  90. हृदय को विदीर्ण कर देने वाला – हृदय विदारक 
  91. हाथ से कार्य करने का कौशल – हस्तलाघव 
  92. अपने आप उत्पन्न होने वाला – स्त्रैण 
  93. जो लौटकर आया है – प्रत्यागत 
  94. जो कार्य कठिनता से हो सके – दुष्कर 
  95. जो देखा न जा सके – अलक्ष्य 
  96. बाएँ हाथ से तीर चला सकने वाला – सव्यसाची 
  97. वह स्त्री जिसे सूर्य ने भी न देखा हो – असुर्यम्पश्या 
  98. यज्ञ में आहुति देने वाला – हौदा 
  99. जिसे नापना सम्भव न हो – असाध्य 
  100. जिसने किसी दूसरे का स्थान अस्थाई रूप से ग्रहण किया हो – स्थानापन्

 15 total views

Hindi Antonyms (विलोम शब्द)

Hindi Antonyms – विलोम शब्द :

1. अग्र – पश्च 

2. अज्ञ – विज्ञ 
3. अमृत -विष 
4. अथ – इति 
5. अघोष – सघोष 
6. अधम – उत्तम 
7. अपकार – उपकार 
8. अपेक्षा – उपेक्षा 
9. अस्त – उदय 
10. अनुरक्त – विरक्त 
11. अनुराग – विराग 
12. अन्तरंग – बहिरंग 
13. अवतल – उत्तल 
14. अवर – प्रवर 
15. अमर – मर्त्य 
16. अर्पण – ग्रहण 
17. अवनि – अम्बर 
18. अपमान – सम्मान 
19. अतिवृष्टि – अनावृष्टि 
20. अनुकूल – प्रतिकूल 
21. अन्तर्द्वन्द्व – बहिर्द्वन्द्व 
22. अग्रज – अनुज 
23. अकाल – सुकाल 
24. अर्थ – अनर्थ 
25. अँधेरा – उजाला 
26. अपेक्षित – अनपेक्षित 
27. आदि – अन्त 
28. आस्तिक – नास्तिक 
29. आरम्भ – समापन 
30. आहूत – अनाहूत 
31. आयात – निर्यात 
32. आभ्यन्तर – बाह्य
33. आवृत – अनावृत 
34. आशा – निराशा 
35. आरोहण – अवरोहण 
36. आस्था – अनास्था 
37. आर्द्र – शुष्क 
38. आकाश – पाताल 
39. आवाहन – विसर्जन 
40. आविर्भाव – तिरोभाव 
41. आरोह – अवरोह 
42. आदान – प्रदान 
43. आगामी – विगत 
44. आदर -अनादर 
45. आकर्षण – विकर्षण 
46. आर्य – अनार्य 
47. आश्रित – अनाश्रित 
48. इष्ट – अनिष्ट 
49. इहलोक – परलोक 
50. उग्र – सौम्य 
51. उदात्त – अनुदात्त 
52. उत्कृष्ट – निकृष्ट 
53. उपसर्ग – परसर्ग  
54. उन्मुख – विमुख 
55. उन्नत – अवनत 
56. उद्दत – विनीत 
57. उपमान – उपमेय 
58. उपत्यका – अधित्यका 
59. उत्तरायण – दक्षिणायन 
60. उन्मूलन – रोपण 
61. उष्ण – शीत 
62. उदयाचल – अस्ताचल 
63. उपयुक्त – अनुपयुक्त 
64. उच्च – निम्न 
65. एड़ी – चोटी 
66. ऐहिक – पारलौकिक 
67. औचित्य – अनौचित्य 
68. एक – अनेक 
69. एकत्र – विकीर्ण 
70. एकता – अनेकता 
71. एकाग्र – चंचल 
72. ऐतिहासिक – अनैतिहासिक 
73. औपचारिक – अनौपचारिक 
74. ऋजु – वक्र 
75. ऋत – अनृत 
76. कटु – सरल 
77. कनिष्ट – जयेष्ट 
78. कृष्ण – शुक्ल 
79. कुटिल – सरल 
80. कृत्रिम – अकृत्रिम 
81. करुण – निष्ठुर 
82. कायर – वीर 
83. कुलीन – अकुलीन 
84. क्रय – विक्रय 
85. कल्पित – यथार्थ 
86. कृतज्ञ – कृतघ्न 
87. कोप -कृपा 
88. क्रोध – क्षमा 
89. कृश – स्थूल 
90. क्रिया – प्रतिक्रिया 
91. खण्डन – मण्डन 
92. खरा – खोटा 
93. खाद्य – अखाद्य 
94. गुप्त – प्रकट 
95. गरल – सुधा 
96. गम्भीर – वाचाल 
97. गुरु – लघु 
98. गौरव – लाघव 
99. गोचर – अगोचर 
100. गुण – दोष 
101. ग्राम्य – नागर 
102. घृणा – प्रेम 
103. चिरंतन – नश्वर 
104. चल – अचल 
105. चंचल – अचंचल 
106. चिर – अचिर 
107. जीवन – मरण 
108. जाग्रत – सुप्त 
109. जंगम – स्थावर 
110. जागरण – सुषुप्ति 
111. ज्योति – तम 
112. तरुण – वृद्ध 
113. तृप्त – अतृप्त 
114. तृष्णा – तृप्ति 
115. तीक्ष्ण – कुंठित 
116. दण्ड – पुरस्कार 
117. दानी – कृपण 
118. दुरात्मा – महात्मा 
119. देव – दानव 
120. दिन – रात 
121. धृष्ट – विनीत 
122. निरर्थक – सार्थक 
123. निर्दय – सदय 
124. निषिद्ध – विहित 
125. नैसर्गिक – कृत्रिम 
126. निष्काम – सकाम 
127. परतन्त्र – स्वतन्त्र 
128. प्राचीन – नवीन 
129. प्राची – प्रतीची 
130. प्रभु – भृत्य 
131. प्रसाद – अवसाद 
132. पूर्ववर्ती – परवर्ती  
133. पाश्चात्य – पौवार्त्य 
134. बंजर – उर्वर 
135. भला – बुरा 
136. भूत – भविष्य 
137. मुख्य – गौण 
138. मनुज – दनुज 
139. मूक – वाचाल 
140. मन्द – तीव्र 
141. मौखिक – लिखित 
142. योगी -भोगी 
143. युद्ध – शान्ति 
144. यश – अपयश 
145. योग्य – अयोग्य 
146. राजा – रंक 
147. रक्षक -भक्षक 
148. रुग्ण – स्वस्थ 
149. रुदन – हास्य 
150. रिक्त – पूर्ण 
151. लौकिक – अलौकिक 
152. लम्बा – चौड़ा 
153. व्यास – समास 
154. विख्यात – कुख्यात 
155. विधि – निषेध 
156. विपन्न – सम्पन्न 
157. विपदा – सम्पदा 
158. वृष्टि – अनावृष्टि 
159. शासक – शासित 
160. शिष्ट – अशिष्ट 
161. शिख- नख 
162. श्याम – श्वेत 
163. शोक – हर्ष 
164. शोषक – पोषक 
165. सत्कार – तिरस्कार 
166. संक्षेप – विस्तार 
167. सूक्ष्म – स्थूल 
168. संगठन – विघटन 
169. संयोग – वियोग 
170. सुमति – कुमति 
171. सत्कर्म – दुष्कर्म 
172. सामिष – निरामिष 
173. स्मरण – विस्मरण 
174. संसदीय – असंसदीय 
175. सृजन – संहार 
176. क्षय – अक्षय 
177. क्षुद्र – विराट 
178. ज्ञेय – अज्ञेय 
179. स्वीकृति – अस्वीकृति 
180. भौतिक – आध्यात्मिक 

 22 total views

Hindi Proverbs (हिंदी लोकोक्तियाँ)

Hindi Proverbs  – हिंदी की प्रमुख लोकोक्तियाँ :

1. अपनी करनी पार उतरनी = जैसा करना वैसा भरना
2. आधा तीतर आधा बटेर = बेतुका मेल
3. अधजल गगरी छलकत जाए = थोड़ी विद्या या थोड़े धन को पाकर वाचाल हो जाना
4. अंधों में काना राजा = अज्ञानियों में अल्पज्ञ की मान्यता होना
5. अपनी अपनी ढफली अपना अपना राग = अलग अलग विचार होना
6. अक्ल बड़ी या भैंस = शारीरिक शक्ति की तुलना में बौद्धिक शक्ति की श्रेष्ठता होना
7. आम के आम गुठलियों के दाम = दोहरा लाभ होना
8. अपने मुहं मियाँ मिट्ठू बनना = स्वयं की प्रशंसा करना
9. आँख का अँधा गाँठ का पूरा = धनी मूर्ख
10. अंधेर नगरी चौपट राजा = मूर्ख के राजा के राज्य में अन्याय होना
11. आ बैल मुझे मार = जान बूझकर लड़ाई मोल लेना
12. आगे नाथ न पीछे पगहा = पूर्ण रूप से आज़ाद होना
13. अपना हाथ जगन्नाथ = अपना किया हुआ काम लाभदायक होता है
14. अब पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गयी खेत = पहले सावधानी न बरतना और बाद में पछताना
15. आगे कुआँ पीछे खाई = सभी और से विपत्ति आना
16. ऊंची दूकान फीका पकवान = मात्र दिखावा
17. उल्टा चोर कोतवाल को डांटे = अपना दोष दूसरे के सर लगाना
18. उंगली पकड़कर पहुंचा पकड़ना = धीरे धीरे साहस बढ़ जाना
19. उलटे बांस बरेली को = विपरीत कार्य करना
20. उतर गयी लोई क्या करेगा कोई = इज्ज़त जाने पर डर कैसा
21. ऊधौ का लेना न माधो का देना = किसी से कोई सम्बन्ध न रखना
22. ऊँट की चोरी निहुरे – निहुरे = बड़ा काम लुक – छिप कर नहीं होता
23. एक पंथ दो काज = एक काम से दूसरा काम
24. एक थैली के चट्टे बट्टे = समान प्रकृति वाले
25. एक म्यान में दो तलवार = एक स्थान पर दो समान गुणों या शक्ति वाले व्यक्ति साथ नहीं रह सकते
26. एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है = एक खराब व्यक्ति सारे समाज को बदनाम कर देता है
27. एक हाथ से ताली नहीं बजती = झगड़ा दोनों और से होता है
28. एक तो करेला दूजे नीम चढ़ा = दुष्ट व्यक्ति में और भी दुष्टता का समावेश होना
29. एक अनार सौ बीमार = कम वस्तु , चाहने वाले अधिक
30. एक बूढ़े बैल को कौन बाँध भुस देय = अकर्मण्य को कोई भी नहीं रखना चाहता
31. ओखली में सर दिया तो मूसलों से क्या डरना = जान बूझकर प्राणों की संकट में डालने वाले प्राणों की चिंता नहीं करते
32. अंगूर खट्टे हैं = वस्तु न मिलने पर उसमें दोष निकालना
33. कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू  तेली = बेमेल एकीकरण
34. काला अक्षर भैंस बराबर = अनपढ़ व्यक्ति
35. कोयले की दलाली में मुहं काला = बुरे काम से बुराई मिलना
36. काम का न काज का दुश्मन अनाज का =  बिना काम किये बैठे बैठे खाना
37. काठ की हंडिया बार बार नहीं चढ़ती= कपटी व्यवहार हमेशा नहीं किया जा सकता
38. का बरखा जब कृषि सुखाने = काम बिगड़ने पर सहायता व्यर्थ होती है
39. कभी नाव गाड़ी पर कभी गाड़ी नाव पर = समय पड़ने पर एक दुसरे की मदद करना
40. खोदा पहाड़ निकली चुहिया = कठिन परिश्रम का तुच्छ परिणाम
41. खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे = अपनी शर्म छिपाने के लिए व्यर्थ का काम करना
42. खग जाने खग की ही भाषा = समान प्रवृति वाले लोग एक दुसरे को समझ पाते हैं
43. गंजेड़ी यार किसके, दम लगाई खिसके = स्वार्थ साधने के बाद साथ छोड़ देते हैं
44. गुड़ खाए गुलगुलों से परहेज = ढोंग रचना
45. घर की मुर्गी दाल बराबर = अपनी वस्तु का कोई महत्व नहीं
46. घर का भेदी लंका ढावे = घर का शत्रु  अधिक खतरनाक होता है
47. घर खीर तो बाहर भी खीर = अपना घर संपन्न हो तो बाहर भी सम्मान मिलता है
48. चिराग तले अँधेरा = अपना दोष स्वयं दिखाई नहीं देता
49. चोर की दाढ़ी में तिनका = अपराधी व्यक्ति सदा सशंकित रहता है
50. चमड़ी जाए पर दमड़ी न जाए = कंजूस होना
51. चोर चोर मौसेरे भाई = एक से स्वभाव वाले व्यक्ति
52. जल में रहकर मगर से बैर = स्वामी से शत्रुता नहीं करनी चाहिए
53. जाके पाँव न फटी बिवाई सो क्या जाने पीर पराई = भुक्तभोगी ही दूसरों का दुःख जान पाता है
54. थोथा चना बाजे घना = ओछा आदमी अपने महत्व का अधिक प्रदर्शन करता है
55. छाती पर मूंग दलना = कोई ऐसा काम होना जिससे आपको और दूसरों को कष्ट पहुंचे
56. दाल भात में मूसलचंद = व्यर्थ में दखल देना
57. धोबी का कुत्ता घर का न घाट का = कहीं का न रहना
58. नेकी और पूछ पूछ = बिना कहे ही भलाई करना
59. नीम हकीम खतरा ए जान = थोडा ज्ञान खतरनाक होता है
60. दूध का दूध पानी का पानी = ठीक ठीक न्याय करना
61. बन्दर क्या जाने अदरक का स्वाद = गुणहीन गुण को नहीं पहचानता
62. पर उपदेश कुशल बहुतेरे = दूसरों को उपदेश देना सरल है
63. नाम बड़े और दर्शन छोटे = प्रसिद्धि के अनुरूप गुण न होना
64. भागते भूत की लंगोटी सही = जो मिल जाए वही काफी है
65. मान न मान मैं तेरा मेहमान = जबरदस्ती गले पड़ना
66. सर मुंडाते ही ओले पड़ना = कार्य प्रारंभ होते ही विघ्न आना
67. हाथ कंगन को आरसी क्या = प्रत्यक्ष को प्रमाण की क्या जरूरत है
68. होनहार बिरवान के होत चिकने पात  = होनहार व्यक्ति का बचपन में ही पता चल जाता है
69. बद अच्छा बदनाम बुरा = बदनामी बुरी चीज़ है
70. मन चंगा तो कठौती में गंगा = शुद्ध मन से भगवान प्राप्त होते हैं
71. आँख का अँधा, नाम नैनसुख = नाम के विपरीत गुण होना
72. ईश्वर की माया, कहीं धूप कहीं छाया = संसार में कहीं सुख है तो कहीं दुःख है 
73. उतावला सो बावला = मूर्ख व्यक्ति जल्दबाजी में काम करते हैं 
74. ऊसर बरसे तृन नहिं जाए = मूर्ख पर उपदेश का प्रभाव नहीं पड़ता 
75. ओछे की प्रीति बालू की भीति = ओछे व्यक्ति से मित्रता टिकती नहीं है 
76. कहीं की ईंट कहीं का रोड़ा भानुमती ने कुनबा जोड़ा = सिद्धांतहीन गठबंधन 
77. कानी के ब्याह में सौ जोखिम = कमी होने पर अनेक बाधाएं आती हैं 
78. को उन्तप होब ध्यहिंका हानी = परिवर्तन का प्रभाव न पड़ना 
79. खाल उठाए सिंह की स्यार सिंह नहिं होय = बाहरी रूप बदलने से गुण नहीं बदलते 
80. गागर में सागर भरना = कम शब्दों में अधिक बात करना 
81. घर में नहीं दाने , अम्मा चली भुनाने = सामर्थ्य से बाहर कार्य करना 
82. चौबे गए छब्बे बनने दुबे बनकर आ गए = लाभ के बदले हानि 
83. चन्दन विष व्याप्त नहीं लिपटे रहत भुजंग = सज्जन पर कुसंग का प्रभाव नहीं पड़ता 
84. जैसे नागनाथ वैसे सांपनाथ = दुष्टों की प्रवृति एक जैसी होना 
85. डेढ़ पाव आटा पुल पै रसोई = थोड़ी सम्पत्ति पर भारी दिखावा 
86. तन पर नहीं लत्ता पान खाए अलबत्ता = झूठी रईसी दिखाना 
87. पराधीन सपनेहुं सुख नाहीं = पराधीनता में सुख नहीं है 
88. प्रभुता पाहि काहि मद नहीं = अधिकार पाकर व्यक्ति घमंडी हो जाता है 
89. मेंढकी को जुकाम = अपनी औकात से ज्यादा नखरे 
90. शौक़ीन बुढिया चटाई का लहंगा = विचित्र शौक 
91. सूरदास खलकारी का या चिदै न दूजो रंग = दुष्ट अपनी दुष्टता नहीं छोड़ता 
92. तिरिया तेल हमीर हठ चढ़े न दूजी बार = दृढ प्रतिज्ञ लोग अपनी बात पे डटे रहते हैं 
93. सौ सुनार की, एक लुहार की = निर्बल की सौ चोटों की तुलना में बलवान की एक चोट काफी है 
94. भई गति सांप छछूंदर केरी = असमंजस की स्थिति में पड़ना 
95. पुचकारा कुत्त सिर चढ़े = ओछे लोग मुहं लगाने पर अनुचित लाभ उठाते हैं 
96. मुहं में राम बगल में छुरी = कपटपूर्ण व्यवहार 
97. जंगल में मोर नाचा किसने देखा = गुण की कदर गुणवानों के बीच ही होती है 
98. चट मंगनी पट ब्याह = शुभ कार्य तुरंत संपन्न कर देना चाहिए 
99. ऊंट बिलाई लै गई तौ हाँजी-हाँजी कहना = शक्तिशाली की अनुचित बात का समर्थन करना 
100. तीन लोक से मथुरा न्यारी = सबसे अलग रहना 

 17 total views

Hindi Words (शब्द)

शब्द :- भाषा की न्यूनतम इकाई वाक्य है और वाक्य की न्यूनतम इकाई शब्द है .

शब्द समूह :- प्रत्येक भाषा का अपना शब्द समूह होता है। इन शब्दों का प्रयोग भाषा के बोलने एवं लिखने में किया जाता है। 

सामान्यत: किसी भी भाषा के चार प्रकार के शब्द होते हैं:

1. तत्सम शब्द:- हिंदी में जो शब्द संस्कृत से ज्यों के त्यों ग्रहण कर लिए गए हैं तथा जिनमें कोई ध्वनि परिवर्तन नहीं हुआ है, तत्सम शब्द कहलाते हैं। जैसे राजा  ,बालक, लता आदि।
2. तद्भव  शब्द:- तद्भव का शाब्दिक अर्थ है तत + भव अर्थात उससे उत्पन्न। हिंदी में प्रयुक्त वह शब्दावली जो अनेक ध्वनि परिवर्तनों से गुज़रती हुई हिंदी में आई है, तद्भव शब्दावली है। जैसे आग, ऊँट, घोडा आदि।
उदाहरण: 
संस्कृत शब्द                                    तद्भव शब्द 
अग्नि                                                आग
उष्ट्र                                                     ऊँट
घोटक                                                घोड़ा
3. देशज शब्द:- ध्वन्यात्मक अनुकरण पर गढ़े  हुए वे शब्द जिनकी व्युत्पत्ति किसी तत्सम शब्द से नहीं होती, इस वर्ग में आते हैं। हिंदी में प्रयुक्त कुछ देशज शब्द भोंपू , तेंदुआ, थोथा आदि।
4. विदेशी शब्द:- दूसरी भाषाओं से आये हुए शब्द विदेशी शब्द कहे जाते हैं। हिंदी में विदेशी शब्द दो प्रकार के हैं:
– मुस्लिम शासन के प्रभाव से आये हुए
– अरबी फारसी शब्द
– ब्रिटिश शासन के प्रभाव से आये हुए अंग्रेजी शब्द
हिंदी भाषा में लगभग 2500 अरबी शब्द, 3500 फारसी शब्द और 3000 अंग्रेजी शब्द प्रयुक्त हो रहे हैं।
उदाहरण:
आदत, इनाम, नशा, अदा, अगर, पाजी, तोप, तमगा , सराय, अफसर, कलेक्टर, कोट,  मेयर, मादाम , पिकनिक , सूप आदि।

 16 total views

Pratyya (Suffixes) (प्रत्यय)

प्रत्यय – प्रत्यय वह शब्दांश है , जिसका स्वतंत्र अस्तित्व नहीं होता और जो किसी शब्द के पीछे लगकर उसके अर्थ में विशिष्टता या परिवर्तन ला  देते है ! शब्दों के पश्चात जो अक्षर या अक्षर समूह लगाया जाता है उसे प्रत्यय कहते है !

1- कृत प्रत्यय – 

 
1. अन – मनन , चलन 
 
2. आ – लिखा , भूला 
 
3. आव – बहाव , कटाव 
 
4. इयल – मरियल , अड़ियल 
 
5. ई – बोली , हँसी 
 
6. उक – इच्छुक, भिक्षुक 
 
7. कर – जाकर , गिनकर 
 
8. औती – मनौती , फिरौती 
 
9. आवना – डरावना , सुहावना 
 
10. वाई – सुनवाई , कटवाई 
 
2- तद्धित प्रत्यय – 
 
1. ईन – ग्रामीण , कुलीन 
 
2. त: – अत: , स्वत:
 
3. आई – पण्डिताई , ठकुराई 
 
4. क – चमक , धमक 
 
5. इल – फेनिल , जटिल 
 
6. सा – ऐसा , वैसा 
 
7. ऐरा – बहुतेरा , सवेरा 
 
8. वान – धनवान , गुणवान 
 
9. ल – शीतल , श्यामल 
 
10. मात्र – लेशमात्र , रंचमात्र 

 14 total views,  1 views today