Pronunciation Errors (उच्चारणगत अशुद्धियाँ )

उच्चारणगत अशुद्धियाँ = बोलने और लिखने में होने वाली अशुद्धियाँ प्राय: दो प्रकार की होती हैं 

– व्याकरण सम्बन्धी तथा उच्चारण सम्बन्धी , यहाँ हम उच्चारण एवं वर्तनी सम्बन्धी महत्वपूर्ण त्रुटियों  की ओर संकेत करंगे , ये अशुद्धियाँ स्वर एवं व्यंजन और विसर्ग तीनों वर्गों से सम्बन्धित होती हैं , व्यंजन सम्बन्धी त्रुटियाँ वर्तनी के अन्तर्गत आ गई हैं , नीचे  स्वर 
एवं विसर्ग सम्बन्धी अशुद्धियों की और इंगित किया गया है !

अशुद्धियाँ और उनके शुद्ध रूप – 

 
1 . – स्वर या मात्रा सम्बन्धी अशुद्धियाँ –
 
1 – अ ,आ सम्बन्धी भूलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– अहार               आहार 
– अजमायश        आजमाइश 
 
2 – इ , ई सम्बन्धी भलें =  की मात्रा होनी चाहिए ,  की नहीं – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– कोटी               कोटि 
– कालीदास         कालिदास 
 
= इ की मात्रा छूट गई है , होनी चाहिए – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– वाहनी              वाहिनी 
– नीत                 नीति 
 
= इ की मात्रा नहीं होनी चाहिए – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– वापिस             वापस 
– अहिल्या           अहल्या 
 
 की मात्रा होनी चाहिए , इ की नहीं – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– निरोग              नीरोग 
– दिवाली             दीवाली 
 
3 – उ ,ऊ सम्बन्धी भूलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– तुफान              तूफान 
– वधु                  वधू 
 
4 –  सम्बन्धी भलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– उरिण               उऋण 
– आदरित            आदृत 
 
5 – ए ,ऐ ,अय सम्बन्धी भलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– नैन                 नयन 
– सैना                सेना 
– चाहिये             चाहिए 
 
6 –  और यी सम्बन्धी भलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– नई                 नयी 
– स्थाई              स्थायी 
 
7 – ओ , और ,अव ,आव  सम्बन्धी भूलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– चुनाउ              चुनाव 
– होले                हौले 
 
8 – अनुस्वार और अनुनासिक सम्बन्धी भलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– गंवार               गँवार 
– अंधेरा               अँधेरा    
 
9 – पंचम वर्ण का प्रयोग – ज् , ण ,न , म , ङ्  को पंचमाक्षर कहते हैं ,ये अपने वर्ग के व्यंजन के साथ प्रयुक्त होते हैं – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप
 
– कन्धा               कंधा 
– सम्वाद              संवाद 
 
10 – विसर्ग सम्बन्धी भूलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– दुख                 दुःख 
– अंताकरण         अंत:करण 
 
– सन्धि करने में भूलें – ( स्वर सन्धि )-
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– अत्याधिक        अत्यधिक 
– अनाधिकार       अनधिकार 
– सदोपदेश          सदुपदेश 
 
– व्यंजन सन्धि में भूलें  – 
 
अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– महत्व            महत्त्व 
– उज्वल            उज्ज्वल 
– सम्हार            संहार 
 
– विसर्ग सन्धि में भूलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– अतेव              अतएव 
– दुस्कर             दुष्कर 
– यशगान           यशोगान 
 
– समास सम्बन्धी भूलें – 
 
  अशुद्ध रूप         शुद्ध रूप 
 
– उस्मा              ऊष्मा 
– ऊषा                उषा 
– अध्यन            अध्ययन 

 20 total views