Alppraan and Mahapraan Alphabets (अल्पप्राण और महाप्राण)

अल्पप्राण और महाप्राण :- जिन वर्णों के उच्चारण में मुख से कम श्वास निकले उन्हें  ‘अल्पप्राण ‘ कहते हैं ! और जिनके उच्चारण में अधिक श्वास निकले उन्हें ‘ महाप्राण ‘कहते हैं!

ये वर्ण इस प्रकार है – 

 


      अल्पप्राण                          महाप्राण
 
     क , ग , ङ                          ख , घ 
 
     च , ज , ञ                         छ , झ 
 
     ट , ड , ण                          ठ , ढ 
 
     त , द , न                          थ , ध 
 
     प , ब , म                          फ , भ 
 
     य , र , ल , व                      श , ष , स , ह 

 24 total views

Hindi Sounds (हिंदी ध्वनियाँ)

हिंदी ध्वनियाँ:-

हिंदी की देवनागरी लिपि में कुल 52 वर्ण हैं। यह वर्णमाला इस प्रकार है:

स्वर :- अ , आ , इ , ई , उ , ऊ , ऋ , ए , ऐ , ओ , औ ( कुल = 11)

अनुस्वार:- अं     (कुल  = 1)
विसर्ग:- अ: ( : )  (कुल  = 1)
व्यंजन:- 
कंठ्य :-                                      क , ख, ग, घ, ड़      = 5
तालव्य :-                                   च , छ, ज, झ, ञ     = 5 
मूर्धन्य :-                                    ट , ठ , ड , ढ , ण    = 5
दन्त्य :-                                     त , थ , द , ध , न    = 5
ओष्ठ्य :-                                   प , फ , ब , भ , म   = 5
अन्तस्थ :-                                 य , र , ल , व         = 4
ऊष्म :-                                      श , स , ष , ह        = 4
संयुक्त व्यंजन: –                           क्ष , त्र , ज्ञ , श्र       = 4 
द्विगुण व्यंजन: –                          ड़ , ढ़                    = 2
                                                                   
                                                                     कुल वर्ण: 52
स्वर ध्वनियों के उच्चारण में किसी अन्य ध्वनि  की सहायता नहीं ली जाती। वायु मुख विवर में बिना किसी अवरोध के बाहर निकलती है, किन्तु व्यंजन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरों की सहायता ली जाती है।
व्यंजन वह ध्वनि है जिसके उच्चारण में भीतर से आने वाली वायु मुख विवर में कहीं न कहीं, किसी न किसी रूप में बाधित होती है। 

 16 total views